खास बात

जिंदगी की जद्दोजहद पर आधारित विचार

14 Posts

62 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 8248 postid : 19

सानिया मिर्जा का प्रतिनिधित्व भारतीय है या फिर पाकिस्तानी ?

Posted On: 18 Jan, 2012 पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

sania mirza in pakistanअकसर यह सुनने में आता है कि आस्ट्रेलियाई ओपन, फ्रेंच ओपन या फिर यू.एस. ओपन में भारत की महिला चुनौती समाप्त हो गई है. भारत की ओर से प्रतिनिधित्व कर रही टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा पहले ही दौर से बाहर हो गई हैं. ये बात बेहद अजीब सी है. इसको सुनने के बाद माथा जरूर ठनकता है साथ ही जेहन में कुछ सवाल भी अपने आप उठने लगते हैं. लेकिन मेरा अपना मानना है कि आखिर सानिया मिर्ज़ा के हारने से किस तरह से भारत की चुनौती समाप्त हो सकती है. जबसे सानिया मिर्जा की शादी पाकिस्तानी क्रिकेटर शोएब मलिक से अप्रैल 2010 में हुई तब से वह भारत की नहीं पाकिस्तान की हो चुकी हैं. तो ऐसे में वे पाकिस्तानी प्रतिनिधि हुईं ना कि भारतीय प्रतिनिधि.


ध्यान दें पाकिस्तान अपने जन्म से ही भारत का घोर शत्रु रहा है. पाकिस्तान के करतूतों को भारत कभी नहीं भुला सकता. उसने हर मोड पर भारत को धोखा ही दिया है. उसने आतंकवाद की आड़ में भारत की शक्ति को छिन्न-भिन्न करना चाहा है. चाणक्य की नीति और नियम यही कहती है कि जो देश या व्यक्ति किसी दुश्मन देश या व्यक्ति के साथ मित्रता या सहानुभूति रखता है वह देश उसका भी मित्र या शत्रु होगा जिसके लिए सहानुभूति रखी जा रही है. भारत इस तरह के देश और व्यक्ति को कभी भी अपना नहीं सकता. ऐसे व्यक्ति किसी भी देश के लिए एक षडयंत्रकारी और गुप्तचर की तरह हैं जो कभी भी उस देश को नुकसान पहुंचा सकते हैं.


उधर मीडिया अपने खबरों को अलग रूप देने के लिए लोगों को गुमराह कर रही है. किसी स्त्री की शादी जब उसके पति के साथ होती है तो वह स्त्री अपने पति और उसके घर की हो जाती है. ऐसे में सानिया मिर्जा अब भारत की न होकर अपने पाकिस्तानी पति शोयब मलिक के घर यानि पाकिस्तान की हो गई हैं. उस हिसाब से भारतीय मीडिया को अपने खबरों में सानिया मिर्जा को एक पाकिस्तानी खिलाड़ी बतलाना चाहिए न की भारतीय. आप अपनी चटपटी खबरों के लिए भारतीय जनता के साथ धोखा नहीं कर सकते. जिस व्यक्ति की जो वास्तविक पहचान है उस पहचान को छुपा कर खबर को कोई और रूप नहीं दे सकते. यदि वीना मलिक भारत में कोई प्रोग्राम करती हैं तो वह एक पाकिस्तानी अभिनेत्री के रूप में प्रोग्राम करेंगी. उसी तरह सानिया मिर्जा किसी देश में जाकर अपना व्यक्तिगत खेल खेलती हैं तो वह भारत का नहीं पाकिस्तान का प्रतिनिधित्व करेंगी.


मेरा आप सभी सम्मानित लेखकों से अनुरोध है कि इस गंभीर मसले पर विचार कर अपनी राय से जरूर अवगत कराएं.


| NEXT



Tags:             

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

9 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

shailesh001 के द्वारा
February 19, 2012

जो बात हम सभी प्रत्यक्ष जानते हैं, जो हमारी परंपरा है यह मीिडया उसे नही मानता . ये इस इलेक्ट्राॅिनक मीिडया के व्यवसायिक स्वाथॆ हैं िजसे टेनिस का भारतीय नायक पेस नहीं दिखाई देता. पर सानिया पाकिस्तानी ही दिखती है बेसहारा हिन्दुस्तानियों का सहारा. हद है। खरी बात। साधुवाद जमुना जी। और मेरे पास इस विदेशी को भारतीय मानने का कोई लालच नहीं है। 

    Jamuna के द्वारा
    February 20, 2012

    शैलेश जी, अपनी राय रखने के लिए धन्यवाद

Devanand Nayak के द्वारा
January 28, 2012

आदरणीया  जमुना जी  आप ने बहुत ही गंभीर  बात कही है यह तय होना चाहिये सानिया भारत की या पाक की है 

    Jamuna के द्वारा
    January 30, 2012

    नायक जी, प्रतिक्रिया देने के लिए धन्यवाद

dineshaastik के द्वारा
January 28, 2012

आपके प्रश्न निःसंदेह उचित एवं विचारणीय हैं, किन्तु यह हमारी संवैधानिक कमजोरी का परिणाम है। “?” वाचक चिन्ह खड़ा करती रचना को बधाई……… कृपया इसे भी पढ़ें- क्या यही गणतंत्र है http://dineshaastik.jagranjunction.com/

Sumit के द्वारा
January 19, 2012

बहुत अच्छा सवाल रखा है आपने, लोगो के सामने http://sumitnaithani23.jagranjunction.com/2012/01/03/मैं-और-तू/

    Jamuna के द्वारा
    January 30, 2012

    सुमीत जी, राय देने के लिए आपको धन्यवाद

niyazahamadansari के द्वारा
January 18, 2012

जमुना जी नमस्कार आपके विचार निश्चय ही प्रासंगिक हैं , हमारी मीडिया को इसका ध्यान रखना चाहिए . पर आपसे एक निवेदन है कि भारत के संविधान का नागरिकता सम्बन्धी अध्याय अवश्य पढ़ लें शायद आप के विचार बदल जाएँ .

    Jamuna के द्वारा
    January 30, 2012

    जनाब, यह मुद्दा तकनीकी नहीं भावनात्मक है. शोयब मलिक से शादी के बाद सानिया मिर्जा का भावनात्मक रिस्ता भारत से कम पाकिस्तान से ज्यादा हो गया है. अब जब यह रिस्ता पाकिस्तान से हो गया है तो हम सभी जानते हैं भारत-पाकिस्तान का संबंध किस तरह का है. इसलिए चाणक्य यह कहते हैं जब भी किसी शत्रु पर संदेह हो तो उस संदेह को दरकिनार न करेके उस पर नियंत्रण स्थापित करके तुरंत कार्यवाही करनी चाहिए.


topic of the week



latest from jagran